fbpx

बारीक आईने


किस्मत ने बड़ी बारीकी से
तोड़े है ये आईने ज़िंदगी के….


अब खुद की खुद से मुलाकात किए
बरसों गुज़र जाया करते….!!!


©खामोशियाँ-२०१४ 

Share

You may also like...

2 Responses

  1. ह्रदयास्पर्शी लेखन भाई ….साथ आपके भाव्नुरूप रूपक हमेशा ख़ास बनाती अभिव्यक्ती।

    सादर

  2. भैया आपका पीठ थपथापना हमेशा से सुखद अनुभव होता…!!!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *