fbpx

पुराने कांटैक्ट


सेल-फोन बदलते ही
गृह-प्रवेश होता,
कुछ नए/पुराने कांटैक्ट* का….!!!
कुछ डिलीट** करते
कुछ संजो लेते….!!!

जीवन भी तो ऐसे ही
करवट लेता,
नए चेहरे के साथ…
नए रिश्तेदार….!!!

खामखा परेशान रहते,
ख्वाइशों की रंगीनीयों मे…
क्या फायदा,
ज़िंदगी बैकप*** नहीं बनाती..
नए सिरे से लिखती है फिरसे….!!

(contact* delete** backup***)

©खामोशियाँ-2014

Share

You may also like...

1 Response

  1. Simple words with deep meaning…happy to read your poems..nice one……..:)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *