fbpx

पुरानी साँझ

आज
पुरानी साँझ
फिर पास आई।

कभी
चुपके-चुपके
खूब चुगलियाँ
करती थी तेरी।

आज
हौले से
मेरे कानो में
कुछ बुदबुदाई।

सुनाई
ना दिया कुछ
हाँ सिसकियाँ कैद है।
कानो के इर्द-गिर्द
और थोड़े भीगे
एहसासों के खारे छींटे भी।

आज
पुरानी साँझ
फिर पास आई।
___________________
पुरानी साँझ – मिश्रा राहुल
©खामोशियाँ // (डायरी के पन्नो से)

Share

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *