fbpx

Tagged: खामोशी

बहेलिये…

उड़्ती
हुई खामोशी..
आ बैठी कंधो पर…!!

चल घोसलो तक
छोड़ दे…!!
कहीं फिर
ना पकड़ ले जाए…!!
वो ज़ुल्मी
बहेलिए…!!
©खामोशियाँ
0
error: Content is protected !!