fbpx

वैबसाइट


होम* से लेकर…..
कांटैक्ट* लिंक तक…..
कितने आवरण ओढ़े…..!!!


चूहे* की एक फटकी*
और खुल जाते असंख्य द्वार….!!!

सोच ही न सके
खो गए मायाजाल मे….
गूगल* से रिश्ते बनाते बनाते….!!!
*home…..*contact……*mouse……*click……*google

©खामोशियाँ
Share

You may also like...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *