fbpx

ज़िंदगी की मॉडर्न आर्ट


बड़े-बड़े कैनवस मे,
उलझी छोटी सी ज़िंदगी ….
कूँची भी सुस्त पड़ी,

रंग-बिरंगे शीशे के बॉटल…
अक्सर पूछा करते,
तस्वीरों से हाल-चाल….!!!

कितने आहिस्ता से,
कंघी करता बालों को….
अभी जन्म ब्रुश*
लबों पर भी
लिपस्टिक* चलाता जाता….!!!

रंगो की दुनिया भी अलग…
कुछ काले…कुछ गोरे,
पर खुद भी द्वेष ना पालते….
बड़े मज़े से घुल जाते,
एक दूजे मे….

आखिर सब मिलेंगे
तभी तो बनेगी…
एक सुंदर…एक सफल
ज़िंदगी की मॉडर्न आर्ट*… !!!

*Brush *Lipstick * Modern Art*

©खामोशियाँ-२०१४  

Share

You may also like...

7 Responses

  1. आपकी उत्कृष्ट प्रस्तुति बुधवारीय चर्चा मंच पर ।।

  2. और बहुत जरूरी है जीवन की ये आर्ट बनाना … इसमें अनेक रंगों को भरना …

  3. Aditi Poonam says:

    बहुत हिसुन्दर भावों से भरी रचना …..धन्यवाद

  4. Archana says:

    जिन्दगी का हर रंग खूबसूरत …………

  5. आज 26/02/2014 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    धन्यवाद!

  6. सब कुछ प्रक्रुति मेम सुनियोजित है,बावजूद भिन्न्ताओं के.
    जीवन के केन वास पर रम्गों की विविधता,सम्योजन के साथ जीवन को
    पूर्ण करती है.
    सम्देश पूर्ण रचना.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *